कंप्यूटर के लिए बढ़िया एंटी-वायरस (Antivirus) कौन सा है?

नमस्कार दोस्तों आप सभी हमेशा सोचते हैं, कि अपने कंप्यूटर को वायरस से मुक्त कैसे रखा जाए. और इस दौरान आप बहुत सारे मुफ्त मिलने वाले एंटी-वायरस (Antivirus) इस्तेमाल करके देखते हो. पर कई बार आप अपने कंप्यूटर को वायरस से मुक्त रखने में असमर्थ होते हो.

आजकल हर कोई कंप्यूटर का इस्तेमाल करता है, जो काम करने के लिए पहले हमें घर से बाहर जाना पड़ता था वही काम आजकल घर बैठे ही हो जाते हैं. इसीलिए लगभग सभी घरों में कम से कम एक कंप्यूटर तो होता ही है. जब तक आपका कंप्यूटर किसी नेटवर्क से नहीं जुड़ा होता है, उसमें कोई वायरस आने की संभावना नहीं होती है, पर जैसे ही आप किसी नेटवर्क से या इंटरनेट से जुड़े रहते हैं यह संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है.

दुनिया में मौजूद अनगिनत वायरस से बचने के लिए, बाजार में काफी सारी एंटी-वायरस बनाने वाली संस्थाएं है. दुनिया में एंटी-वायरस बनाने वालों से वायरस बनाने वालों की संख्या ज्यादा है, इसीलिए सिर्फ कुछ गिनी-चुनी संस्थाओं का एंटी-वायरस ही आपके कंप्यूटर को पूरी तरह से सुरक्षित रख सकते हैं.

Best Antivirus
Best Antivirus

क्या होता है वायरस

वायरस कैसा प्रोग्राम होता है, जो आपके कंप्यूटर के सामान्य बर्ताव को असामान्य बना देता है. जिसके चलते आप कोई भी काम आसान तरीके से नहीं कर पाते हो. आपकी कंप्यूटर में मौजूद कोई भी सॉफ्टवेयर यह फाइल अपना बर्ताव बदल देते हैं, यह एक तरह से कंप्यूटर के लिए बीमारी होती है. जिस तरह से इंसान बीमार होने के बाद अपने काम ढंग से नहीं कर पाते हैं, उसी तरह से कंप्यूटर बीमार हो जाते हैं. जैसे इंसानों के लिए बीमारी छोटी से लेकर बड़ी तक होती है, वैसे ही कंप्यूटर के लिए वायरस में काफी लेवल होते हैं. अगर कोई बड़ा वायरस आ जाए तो आपके कंप्यूटर की हार्ड डिस्क तक खराब हो जाती है, जिसकी वजह से आप अपने सारे देते है.

क्या होता है एंटी-वायरस

एंटी-वायरस भी एक तरह का प्रोग्राम होता है, पर यहां उस पुलिस वाले की तरह है जिसके हाथ में हथियार तो है पर नुकसान करने के लिए नहीं, सिर्फ नुकसान करने वाले लोगों को पकड़ने के लिए, या फिर मारने के लिए. जब आप आपके कंप्यूटर पर एंटी-वायरस इनस्टॉल करते हो, तब यह एंटी-वायरस कंप्यूटर की प्रणाली के साथ इस प्रकार छोड़ जाता है कि वह कंप्यूटर प्रणाली और एंटी-वायरस में एक रिश्ता बना लेता है. जिसकी वजह से कंप्यूटर प्रणाली एंटी-वायरस को पूरे अधिकार दे देती है. और एक अधिकारों की मदद से एंटी-वायरस सारे वायरस हटाने में सक्षम होता है. जिसकी वजह से पहली बार आपको पता भी नहीं चलता है की वायरस कब आया और एंटी-वायरस ने उसे कब खत्म कर दिया. आपको शायद ही पता हो कि दुनिया में सबसे पहला वायरस १९७१ मैं पाया गया था, इस वायरस का नाम था “क्रीपर“, और यह वायरस “टेनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम” पर आया था. इस वायरस से टेनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम को बचाने के लिए, “ रिपर एंटी-वायरस ” बनाया गया था. जहां दुनिया का सबसे पहला एंटी-वायरस है. इसने इस वायरस को टेनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम से पूरी तरह से निकाल दिया था.

कंप्यूटर में कौन सा एंटीवायरस रखें

१. Windows Defender

अगर आप Windows ऑपरेटिंग सिस्टम यूज करते हो, तो उनका खुद का एंटी-वायरस प्रोग्राम है. Windows अपडेट के साथ एंटी-वायरस भी अपडेट हो जाता है. यह एंटी-वायरस Windows के साथ मुफ्त दिया जाता है. इस एंटी-वायरस की सेटिंग्स आपको कंट्रोल पैनल में मिल जाती है. Windows Defender यह एंटी-वायरस रैंसमवेयर जैसे वायरस को मिटने भी सक्षम है.

२. Quick Heal Antivirus

यह एंटी-वायरस आपको बाजार में काफी आसानी से मिल जाएगा. पर यह थोड़ा महँगा है. अगर आप अपने कंप्यूटर की सुरक्षा को लेकर थोड़ा ज्यादा खर्च  करने को तैयार है,  तो फिर यह एंटी-वायरस काफी मददगार साबित होगा.

३. AVG Antivirus

अगर आप मुफ्त एंटी-वायरस ढूंढ रहे हो. तो यह एंटी-वायरस आपको इन्टरनेट पर बड़ी आसानी से मिल जायेगा. यह मुफ्त होने के कारण इसके अपडेट थोड़े देरी से होते है. तो कुल मिला के यह एक माध्यम श्रेणी का एंटी-वायरस है.

Comments

comments